Posts

Showing posts from July, 2020

a brain biggest than buffalo

Image
Budhiram and mad ram were two brothers. Budhiram was the elder brother of those who had studied a little. My younger brother knew Sanskrit alone. Yet he had nothing to call this wisdom. He had a good sense that he would accept whatever was said to him. There was much love in the two brothers. The elder brother was married, but he was left to be counted. It was also a strange fact that it was on the day he was about to leave to take, that he had to do something very important about the budhuram 's business, that the greed for wealth sometimes strengthens man. This was the fate of budhiram. To take advantage of thousands of rupees. Now which of the two is left? That was the reason why the Buddha insisted on his intelligence and finally he came to the conclusion that "gouna can bring his brother, so that would be better." Pagalaram should be sent to take gauna and earn money himself. In this way two armies will be converted. 'after this the wise ram called rama, his

Ram name's swag

Image
The selfish foot. This was the name of the shopkeeper whose shop was full. There was a large crowd of people in the market all the time, and every shopkeeper kept an eye on waiting for its customers. Lala selfish lal, as his name was, did the same thing. He held a rosary in his hand all the time, as he would speak loudly if he saw a customer, 'rama', if he could loot it. He can read and write. Then the sound of the selfish shit would have become too loud. There would have been a curious effect on the minds of the customers: "ram nam, radhe shyam." He was inspired by the religious passion that he used to drag himself towards a selfish excrement shop. There was the loot of rama. It was the selfish act of looting customers with him, and when he entered his shop, he spoke loudly. The religious sentiment was aroused and the selfish mal turned his back straight as the customer asked him for a price, saying, "hail to the king ram chandra." The customer would

Don't be too naive

Image
Shobhraj was one of the leading lawyers of the town. Once their old servant had left for some reason, he thought of starting up a new one. He spoke to his friends about the idea of bringing some innocent, simple servants who worked for the house. The next day their friends brought a servant. That was called the bear. He was a bear of name and of work. The lawyer looked at him and said, look, bear! You have a torn dhoti - kurta, and I am going to give you a new uniform. Go inside and wear it." The bear was simple. For the first time he saw the pants, he didn 't know anything about the coat. Where all these clothes were used in his village. The pants. coat Turban.. He could not understand. Now it was the thing that doesn 't die. When he was forced to wear his clothes, he put his legs in the arms of the coat and thrust his legs into his arms, tied the donkey to his waist. As soon as the bear appeared before the lawyer, he laughed so loudly that the tea in his mouth fe

As work as you to pay

Image
Both husband and wife were married. In the neighborhood Because they loved each other. Corresponding love For they had made each other to enjoy each other. She took it. The bride was very clever. He all his from chhabili The distinction would have been made but never made a distinction. When I came to chhabili and told her about it, she would come out of rut. She would say, "sister! What will you tell me. That thing then I already know that." Thus everything was cut apart. A few children were gone. Though chabili was deeply distressed at her heart, she was a simple woman. She couldn 't have let him go before a clever woman like her husband. For a long time she suffered the maltreatment of chhabili dhuri. In a very often isolated How can you take revenge on your insult again and again? She would not praise him for anything better. When she heard what she had said, 'sister! Its me Already knew it. "In retaliation... Revenge... Revenge... He brither o

Punish the wicked

Image
Kuwar pratap singh felt that the idea of abandoning the life of a kshatriyas was to enter a brahmin faith that he came to his royal priest pandit shri rama. "Say to kunwar sahib, how did you come? What a feat! I want to make you my guru, that is, I want to enter the brahmin faith now." It is a pleasure that a king should enter our religion, "the pundit made kunwar pratap singh his disciple. From that very day onwards kuvar sahib started serving them. One day when kunwar 's wife came to see him he saw the panditji, beautiful... So beautiful..." Seeing a more beautiful woman than the moon, he felt discontented. As soon as the fire of lust was kindled, he forgot his religious deeds. Early in the morning, he called on kunwar pratap singh and said to him, look, kuwar sahib! You have yet to become my incomplete disciple. "how can he do that?" The wife is said to be of half - ganni in our scriptures. Hell yeah "Then you will till your wife us Charged

A fool such too

Image
When one of the jaats had prepared himself for his father 's shraddha, he invited the panditji to perform a sacrifice. Panditji made the jat sit before him and said, look, brother! I would make a sacrifice to your hands for the peace of your father 's soul. It will only be complete if you do everything with the true heart what I tell you. For the peace of my father 's soul I am prepared to do what you will say I will obey you. "the pandit started the sacrifice." take water in the bowl first. The teacher said nothing. "Take a quick gulp of water first." Even the jat spoke like this. "Oh my brother! "I am telling you," the pundit said in disgust. "Come on, my brother. "This is what jat said. Don 't you worry about it? You must have been crazy." The pandit got even more angry. They shouted loudly. Don 't you worry about it? You must have been crazy." Jat shouted in the same way. Once more, he was so furious t

मूर्खो से बचो

गाँव समयपुर के वासी उस समय बहुत चिंतित हुए जब पुरे गाँव के पशु बीमारी का शिकार हो एक-एक कर मरने लगे । गाँव के सीधे-साधे लोग डर के मारे तांत्रिकों, जादूगरों की शरण में गए और रोते-रोते अपना हाल सुनाने लगे, उनके पाँव पड़कर कहने लगे-"हमें बचाओ, हमारे पशु मर गए तो हम बर्बाद हो जाएँगे। हमारा नाश हो जाएगा।" तांत्रिको के गुरु ने जब इतने लोगों को रोते देखा। तो बोले-" तुम लोग लोहे की छड़ को आग में अच्छी तरह गर्म करो जब छड़ लाल हो जाए तो उसे पशु के शरीर में दाग दो, ऐसा करने से पशुओं का रोग ठीक हो जाएगा।" तांत्रिक की बात मानकर सब गाँव वासी अपने- अपने घरों को वापस आ गए। गाँव में आकर उन्होंने तांत्रिक के कहे अनुसार रोगी पशु के शरीर पर गर्म लाल छड़ का दागना शुरू कर दिया। लोहे की गर्म छड़ शरीर पर लगते ही बेचारे पशु तड़पने लगते उन बेचारों के कौन सी जुबान थी, जो बोलकर बता सकते कि हमें इससे पीड़ा हो रही है। एक दिन एक पंडित जी उस गाँव में आए। रात को वे मुखिया के घर में सोए सुबह उठकर वेदों का पाठ करने लगे। पाठ करने के पश्चात् उन्होंने देखा और बोले- "हाए! यह क्य

जैसे को तैसा

पंडित रामचन्द्र जी एक लम्बे समय तक काशीजी में जाकर वेद, शास्त्रों का अध्ययन करके ज्ञान प्राप्त करके बहुत प्रसन्नचित्त होकर अपने गाँव वापस आ रहे थे कि रास्ते में वे एक मूर्खों के गाँव से गुज़रे। उस गाँव के वासियों ने उनकी ढीली धोती और बड़ा सा चन्दन का टीका देखा तो उनके मुखिया ने आकर पूछा- "क्या आप पंडित जी है ?" "जी हाँ, मैं पंडित ही हूँ?"' "आप कहाँ से आ रहे हैं ? मुखिया ने पूछा। " मैं वेदों तथा अन्य सब धर्म ग्रन्थों का अध्ययन करके समूचा ज्ञान प्राप्त करके काशी जी से आ रहा हूँ और अपने घर जा रहा हूँ। "इसका अर्थ यह हुआ कि आप बहुत बड़े ज्ञानी और विद्वान पंडित हैं।" "हाँ, हाँ मैं इस समय बहुत बड़ा विद्वान हूँ, ज्ञानी हूँ, सब शास्त्रों का अर्थ कर सकता हूँ।" पंडित रामचन्द्र गर्व. से अपना सीना चौड़ा करते। "अच्छा, तो क्या आप हमारे गाँव के लट्ठा पंडित के साथ शास्त्र अर्थ करेंगे ?" "क्यों नहीं, क्यों नहीं। मैं तो संसार के किसी भी पंडित से शास्त्र अर्थ करने के लिए तैयार हूँ। पूरे पच्चीस वर्ष तक मैंने काशीजी म

वसीम जाफर की सफलता

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर वसीम जाफर इंटरनेशनल लेवल पर तो लंबी पारी नहीं खेल पाए, लेकिन उन्होंने घरेलु किकेट में अलग मुकाम बनाया। खासकर रणजी ट्रॉफी में उनके नाम कई रेकॉर्ड हैं।   यहा तक पहुंचने में जाफर का संघर्ष कम नहीं रहा। मुम्बई मे जन्मे जाफर के पिता बस ड्राइवर थे। उनके पिता का सपना था कि उनके चार में से कम से कम एक बेटा देश के लिए, क्रिकेट खेले। घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। उनकी माँ अचार बनाने सहित कई काम करती थी। जाफर भी अचार बनाने में मदद किया करते थे। जाफर स्कुल आने से पहले और बाद मे कई घंटे क्रिकेट खेलते थे। 18 वर्ष की उम्र में उन्हें मुंबई रणजी टीम मे शामिल किया गया। उन्होंने दुसरे प्रथम श्रैणी मैच में 15 रन की पारी खेली यह पहला मौका था जब किसी बल्लेबाज ने मुंबई के लिए होमग्राउंड से बाहर तिहरा शतक लिगाया। अच्छे प्रदर्शन के बूते पर जाफर को फरवरी 200 में मुबई में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट डेब्यू करने का मौका मिला। उन्होंने आखिरी टेस्ट भी दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ही खेला। अपने कॅरियर के 31 टेस्ट में पांच शतक लगाए जिसमें दो दोहरे शतक थे। भले

मेट-मुलनवेग ( वर्ल्ड प्रेस के सह संस्थापक)

मेट मूलनवेग का जन्म 11 जनवरी 1984 को हॉस्टन टेक्सास अमेरिका में हुआ था। इन्होंने प्रसिद्ध ओपन सोर्स वेब सॉफ्टवेयर वर्ल्ड प्रेस कि स्थापना कि। वर्ल्ड प्रेस एक ऐसा ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है जिसके इस्तेमाल से आप वेबसाइट ब्लॉग और ऐप बना सकते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि इंटरनेट पर चलने वाली वेबसाइट में से करीब 30% वेबसाइट का संचालन वर्डप्रेस करता है, इस सॉफ्टवेयर की सफलता के पीछे मेट मूलरवेग की मेहनत और लगन है।इस क्षेत्र में उन्होंने काफी मेहनत की है तो बात कुछ ऐसी है कि, मूलन वेग को अपने यूनिवर्सिटी समय से ही ब्लॉगिंग की धुन सवार थी। मूलन अपने मित्र माइक लिटल के साथ मिलकर वर्डप्रेस का सोर्स कोड बना रहे थे उन्होंने वर्ष 2003 के इस कोड को लॉन्च किया। इसके बाद कारणवश 1 साल के बाद ही वह संस्थान छोड़कर कैलिफोर्निया के सैन फ्रांसिस्को में एक इंटरनेट टेक्नोलॉजी सीएनईटी के साथ जुड़ गए इसके बाद वर्ष 2009 में उन्होंने ऑटोमेटिक नामक कंपनी की शुरुआत की एक सॉफ्टवेयर डेवलपर के साथ-साथ एक अच्छे फोटोग्राफर भी है। उनका कहना है कि वह वर्डप्रेस यूजर का एक ऐसा ग्रुप बनाना चाहते हैं जो अगल

लाइनस टोरवाल्ड्स की जीवनी

लाइनस टोरवाल्ड्स की जीवनी लाइनस बेनेडिक्ट टोरवाल्ड्स अमेरिकी सॉफ्टवेयर इंजीनियर है इन्हें ऐतिहासिक रूप से लिनक्स कर्नेल के प्रमुख डेवलपर के रूप में जाना जाता है। इन्हीं के नाम पर ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम लिनक्स को अपना नाम मिला था। उन्होंने वितरित संस्करण नियंत्रण प्रणाली Git भी बनाया उन्हें कंप्यूटर के लिए बनाए गए ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम, सॉफ्टवेयर लिनक्स के लिए मिलेनियम टेक्नोलॉजी प्राइस से भी सम्मानित किया जा चुका है। हेलसिंकी यूनिवर्सिटी से कि पढा़ई 1988 से 1996 के बीच लाइनस ने हेलसिंकी यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस में स्नातक की डिग्री के साथ मास्टर डिग्री भी हासिल की 1989 मे उनकी पढ़ाई बाधित हुई क्योंकि फिनलैंड में अनिवार्य सैन्य सेवा को पूरा करने के लिए उन्हें 11 महीने का अधिकारी प्रशिक्षण कार्य कोर्स करना पड़ा था। 1990 में उन्होंने फिर से पढ़ाई शुरू की जहां उन्हें यूनिक्स के बारे में जानने को मिला। 11 साल की उम्र में शुरू की प्रोग्राम कंप्यूटर के प्रति लाइनस का लगाओ 11 साल की उम्र में शुरू हो गया था जब उन्होंने कोमोडोर वीआईसी-20 कंप्यूटर पर प्रारंभिक रूप

संगीतकार जिमी का संघर्ष

जिमी जब पैदा हुए थे तब उनके पिता सेना में सेवाएं दे रहे थे और स्थितियां कुछ इस प्रकार बनती चली गई कि जिमी के पिता उन्हें काफी समय बाद देख पाए एक मजेदार बात यह है कि जिमी के पापा खुद एक अच्छे जैज डांसर थे। लेकिन उनका यह शौक प्रोफेशनल तौर पर कोई आकार नहीं ले पाया। आर्मी से वापस आने के बाद भी। उनका काफी समय एक अच्छा जॉब ढूंढने में चला गया। और फिर जब जिमी नौ साल के थे, उनके माता-पिता अलग हो। गए। फिर पंद्रह साल की उम्र में ही जिमी ने अपनी मां को हमेशा के लिए खो दिया। दुख उनकी जिंदगी का हिस्सा बन गए थे। लेकिन एक चीज थी जिसने जिमी को हमेशा खूशी दी और वह था उनका गिटार। 15 साल की उम्र से ही जिमी ने गिटार से दोस्ती कर ली थी और इसके बाद गिटार हमेशा उनका सबसे अच्छा और सच्चा दोस्त बनकर रहा। तब, जब वो आर्मी में कठिन डिसीप्लीन और अपने साथी ट्रेनीज की टांग खिंचाई का टारगेट थे और तब भी जब वो एक म्यूजिशियन बनने के लिए स्ट्रगल कर रहे थे, गिटार उन्हें हर समय सुकून देने का काम करता था आज दुनिया के महान इलेक्ट्रिक गिटारिस्टरस में जिमी की गिनती होती है। उन्होंने अपने जमाने के कई मशहूर म्यूजिशिय

गीदड का दिखावा मौत का कारण-

एक बार एक भूखा प्यासा गीदड़ जंगल में भटक रहा था तभी वह किसी गांव में भटकता हुआ पहुंचा गांव में बहुत से आवारा कुत्ते घूम रहे थे। तभी गीदड़ को देखकर कुत्ते भोंकने लगे गीदड़ डर गया और भागते भागते एक धोबी का घर खुला दिखा वह गीदड़ उस घर मे चला गया अंधेरा होने से उसे कुछ स्पष्ट दिखा नही और वो एक नीले रंग के पानी के कुंड मे जा गिरा। यह नीला रंग का पानी धोबी ने कपड़े रंगने के लिए रखे थे। अब गीदड़ उस नीले रंग में पूरी तरह से रंग गया था और एक विचित्र सा प्राणी लगने लगा था अब वो छिपते छिपाते जंगल में वापस आया। और सभी जानवरों ने उसे देखा और आश्चर्य करने लगे कि यह विचित्र प्राणी कौन है और सभी आपस में चर्चा करने लगे यह प्राणी असाधारण लगता है कोई देवदूत होगा और उन्हीं में से जंगल के राजा शेर ने कहाँ कि आप कोई असाधारण देवदूत लगते हैं अतः आप ही इस जंगल के राजा का पद संभाल सकते हैं और उसे जंगल का राजा बना दिया। इसके बाद गीदड़ की खूब सेवा की अब गीदड़ का जीवन बहुत सुखमय हो गया था उसे खाने के लिए शिकार करने की आवश्यकता नहीं होती थी जंगल के सभी जानवर अच्छा-अच्छा खाने को लाते और उस गीदड

लोभ ही नाश का कारण है

एक बार सारे देश में वर्षा ना होने के कारण सूखा पड़ गया सूखे के कारण फसलें नष्ट हो गई लोग भूख प्यार से मरने लगे पक्षी बेचारे भूख से तड़पने लगे तो उन्होंने सोचा कि अब पहाड़ों की ओर ही चलना चाहिए|  पहाड़ों की ओर जाने वाले पक्षियों में चिड़ियों का भी एक दल था यह दल दिन भर की उड़ान के पश्चात एक पहाड़ की चोटी पर पहुंचे तो उन्हें वहां पर भी खाने के लिए नहीं मिला जो थोड़ी-बहुत इधर उधर भाग दौड़ से मिला भी उससे उसका पेट नहीं भर पाया | इस दल में एक चिड़िया बहुत होशियार थी उसे जब भूख से अधिक तंग किया तो वह अकेले ही जंगल की ओर निकल गए इस जंगल में से एक बड़ी सड़क शहर की ओर जाती थी उस चिड़िया ने देखा कि इस सड़क पर से अनाज से भरी गाड़ियां शहर की ओर जा रही थी इन गाड़ियों में से थोड़ा बहुत अनाज इस सड़क पर गिरा जा रहा था चिड़िया ने अनाज को गिरते देखा तो उसका मन खुशी से नाच उठा भूखे को रोटी मिलने की आशा हो तो वह खुश हो जाता है, यही हाल उस चिड़िया का था जिसका पूरा दल एक-एक दाने को तरस रहा था पहले तो उसके मन में आया कि मैं अपने दूसरे साथियों को भी इस बारे में बता दू किन्तु फिर वह स्वयं ह

गधे कि मूर्खता

बनारस में कर्पूरपटक नाम का एक धोबी रहता था। उसके पास एक गधा था, जो उसके काम में हाथ बटाता था। इसके अतिरिक एक कुत्ता भी था जो दिन के वक्त घाट पर कपड़ों की और रात के समय घर की रखवाली करता था। एक रात धोबी और उसकी पत्नि बेफिक्री से सो रहे थे कि। 'आधी रात को घर में एक चोर घुस आया। उस समय धोबी का कुत्ता और गधा दोनों ही आँगन में बँधे हुए थे। गधे ने जैसे ही चोर को देखा तो वह झट से कुत्ते से बोला- ‘देखो मित्र..चोर.. मालिक के घर में चोर घुस रहा है।' ‘तो फिर मैं क्या करू? गधा- ‘अरे मूर्ख, तुम जोर-जोर से भौंक कर मालिक को जगाओ ताकि मालिक चोर से अपनी संपत्ति की रक्षा कर सके।' गधे ने क्रधित होकर कहा। कुत्ता- ‘गधे भैया।? तुम मेरे काम की चिंता मत करो'। बिना वजह दूसरे के काम में दखलअंदाजी नहीं करनी चाहिए। कुत्ता- क्या तुम यह नहीं जानते कि मेरे द्वारा रात-दिन मालिक के घर की रक्षा करने के बाद भी हमारा मालिक मेरी सेवा का कोई अहसान नहीं मानता है। अब तो इसने मुझे समय पर खाना तक देना बंद कर दिया है, मैंने तो यह फैसला कर लिया है कि जब तक इसका नुकसान नहीं होगा, तब तक म

लोभी पंडित जी

प्राचीन मगध के किसी गांव में एक ज्ञानी पंडित रहते थे। वे भागवत कथा सुनाते थे। गांव में उनका बड़ा सम्मान था। लोग महत्वपूर्ण विषयों पर उनसे ही विचार-विमर्श कर मार्गदर्शन लेते थे। एक बार पंडित जी को राजधानी से राज्य के मंत्री का बुलावा आया। पंडित जी गांव की नदी नाव से पार कर राजधानी पहुँचे। मंत्री ने उनका अतिथि सत्कार कर कहा-'मैंने आपकी ज्ञान की काफी प्रशंसा सुनी है। मैं चाहता हूँ कि आप प्रतिदिन यहाँ आएं और मुझे तथा मेरे परिजनो को कुछ दिन भागवत कथा सुनाएे। पंडित जी ने खुशी-खुशी स्वीकृति दे दी। अब पंडित जी प्रतिदिन नदी पार कर मंत्री को भागवत कथा सुनाने जाने लगे। एक दिन जब पंडित जी नदी पार कर रहे थे तो एक घडियाल ने पानी से सिर बाहर निकालकर कहा पंडित जी। आते-जाते मुझे भी भागवत कथा सुना दिया कीजिए मैं आपको मोटी दक्षिणा दुगा।   यह कहकर उसने अपने मुँह से एक हीरों का हार निकालकर पंडित को दिया। पंडित जी हार देखकर भूल ही गए की उनको मंत्री के यहाँ कथा सुनाने जाना है। तब से वे रोज उस घाडियाल को कथा सुनाते और वह घड़ियाल रोज उन्हें हीरे मोती देता। एक दिन नाव चलाने वाला नाव

सच्चा शिष्य

गाँव से बहुत दूर एक जंगल में एक गुरूजी रहते थे। वहां उनका बड़ा आश्रम था जहां रहकर अनेक शिष्य विद्याध्ययन करते थे। गुरूजी की वाणी से सभी वेद, शास्त्रो का श्रवण कर ग्रहण भी करते थे। आश्रम में कई दुधारू गाएं भी थी। जब अध्ययन की अवधि समाप्त हो गई तो गुरूजी ने एक दिन सबको अपने सामने एक साथ बैठाकर दीक्षा और आर्शीवाद देते हुए कहा- ‘'तुम सब मेरे प्रिय और आत्मीय हो। में चाहता हुँ कि मेरी ओर से भेंटस्वरूप एक-एक गाय अपने-अपने घर ले जाओ शिष्य के रूप में तूमने जो सेवा-भाव दिखाया है, उससे मे बहुत प्रसन्न हुँ।" यह सुनते ही शिष्यगण गदगद हो गये। वे शीघ्र ही अपनी पसंद की गाय चुन-चुनकर रस्सी हाथ में थामे हुए जब वहा से प्रस्थान करने को उत्सुक हुए तो गुरूजी की दृष्टि एक भोले-भाले शिष्य पर पड़ी जो यह सब चूपचाप देख रहा था। उसको पास बुलाकर गुरूजी ने पूछा- "बेटा। तुम क्यों शांत खड़े हो ? क्या तुम्हे नही चाहिए' नहीं गुरूजी, वह हाथ जोड़कर विनयपूर्वक बोला-"मुझे यहाँ की कोई गाय नहीं चाहिए। मुझे केवल आर्शीवाद चाहिए जो आपने देकर मेरा उपकार किया है।" शिष्य की कृत

सियार कि चतुराई

ब्रह्रारण्य नामक वन में कर्पर तिलक नाम का एक हाथी रहता था। वह बडा ही विशाल और बलशाली था। वह जिधर से भी गुजर जाता, वहाँ के पशु-पक्षी अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर छिप जाते। उसने अनेक पशु-पक्षियों को उन्मत्त होकर अपने पैरों तले रौंद डाला था। सभी पशु उस हाथी से बचने का उपाय सोचा करते थे। मगर कोई भी ऐसा उपाय उन्हें नहीं सूझा, जिससे हाथी को मौत के मुह में झोंका जा सके। लेकिन उस हाथी से आतंकित एक वृध्द सियार ने ऐसा कर दिखाया। हुआ यह कि डरपोक सियारों ने हाथी से बचने के लिए आपस में विचार-विमर्श किया। सभी ने कोई-न-कोई उपाय प्रस्तुत किया, मगर कोई भी उपाय कारगर नहीं था। इस पर एक वृद्ध सियार ने कहा- भाइयों। आपके उपाय स्वयं के लिए घातक हैं, इसलिए उन पर अमल नहीं किया जा सकता। लेकिन मैं प्रतिज्ञा करता हु कि उस हाथी को यमलोक भेजकर ही दम लुँगा।' ‘लेकिन कैसे? क्या एक वृध्द सियार बलशाली हाथी को मार सकता है?' सभी सियारों ने एक स्वर में पूछा। ‘हाँ मार सकता है, अपने विवेक और बुध्दि से। याद रखो कि कोई भी कार्य ऐसा नहीं है जो असंभव हो। हालाकि मेरे उपाय में भी प्राण जाने की संभावन

आगे हि आगे बढो

शाम का समय था गुरुजी ने मधुकांत को जंगल से लकड़ियां लाने के लिए भेजा। ज्यो ही मधुकांत जाने लगा, सामने देखा तो एक विशालकाय राक्षसी छाया दिखाई दी। मधुकांत डरकर वापिस दौड़ा- "गुरु जी। बाहर आश्रम की दीवार पर एक राक्षस है।" गुरुजी शांत होकर बोले- "तो क्या हुआ...तुम उस राक्षस से भिड़ जाओ..." "लेकिन वह तो मुझसे पांच गुना अधिक लम्बा चौड़ा है....' "‘तब क्या है? यह मेरी आज्ञा है। प्रभु का नाम् जपता हुआ मधुकांत धीरे-धीरे आगे की ओर बढ़ने लगा। लेकिन यह क्या। आश्चर्य। राक्षस छोटा होने लगा। मधुकांत और आगे बढ़ा, राक्षस और छोटा हो गया। आखिर में दीवार के पास पहुंचने पर राक्षस मधुकांत के बराबर कद का रह गया। पीछे से गुरुजी की हंसने की आवाज आई। मधुकांत झेंप गया, "गुरुजी बस और शार्मिन्दा ना करें। मैं जान चुका हूँ कि यह तो मेरी परछाई थी।' " लेकिन बेटा, यह भी जान लो कि सभी कठिनाईयां एक छाया से अधिक कुछ नहीं होती। दृढ़ता से आगे बढने से कठिनाईयां छोटी होती जाती हैं।

सफलता के प्रति समर्पण

एक बार की बात है पाउलो पिकासो न्यूयॉर्क में एक सड़क पर घूम रहे थे, एक महिला उनसे टकराई, महिला ने पहचान लिया :- आप पाउलो पिकासो है मैंने आप को पहचान लिया वह भागी भागी गई और एक पेपर लेकर आई और पाउलो के हाथ में दिया । और कहा -: सर आप एक बहुत बड़े पेंटर हैं क्या आप मेरे लिए कुछ स्केच ड्रॉ कर सकते हो, उन्होंने पेपर लिया और पेन लिया स्केच ड्रॉ किया और उस महिला को दे दिया मात्र 30 सेकंड में स्केच बनाया । और कहा -: यह आपके लिए, यह पेंटिंग 50 लाख की है महिला को विश्वास नहीं हुआ कि यह कैसे संभव है कि 30 सेकंड में बनी पेंटिंग 50 लाख की है वह महिला गई। और तीन चार जगह पर उसका रेट पूछा । खरीददारो ने कहा-: यह पावलो पिकासो की पेंटिंग है मैम, महिला ने कहा-: हाँ यह पावलो पिकासो की पेंटिंग है। महिला ने कहा -: कितने मे खरीदोगे। खरीददार ने कहा-: मैडम कम से कम 50लाख हम इसके दे सकते हैं, महिला शॉक हो गई और उसने पता किया पावलो पिकासो कहा रहते हैं ढूंढते ढूंढते पावलो पिकासो के पास पहुंची। और कहा-: सर आपने मुझे पहचाना मैं वही महिला हूं मैं आपको मिली थी और आपने मेरे लिए एक पेंटिंग ड्रॉ करी थी 3

संगत मे रंगत

आपकी संगति अच्छी होनी चाहिए। क्योंकि आपकी संगति यह निर्धारित करती है कि आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर पाएंगे या नहीं क्योंकि आप कुछ समय तक 6 नालायको के साथ रहे और आप देखेंगे कि एक समय के बाद 7वे नालायक आप होंगे और आप तीन सदाचारी दोस्तों के साथ रहिए और आप पाएंगे कि चौथे जेंटलमैन आप होंगे। अच्छी संगति सदा सुख दायक होती है। महावीर कर्ण में कई ऐसे गुण थे जो हर किसी मे नही होते वह शूरवीर थे, परशुराम के शिष्य थे और कई अस्त्र-शस्त्र और युद्ध कौशल में महारत थे किंतु उनकी मृत्यु बड़ी ही दुख दायक तरीके से हुई क्योंकि उन्होंने अधर्म का पक्ष लिया था अर्थात दुर्योधन की बुरी संगति में थे। जैसे पुष्य नक्षत्र में गिरे हुए जल की बूंदें जब शिप मे गिरती है तो मोती बन जाते हैं,केले के पत्तो पर गिरती है तो कपूर बन जाता है और वही सांप के मुंह में गिरता है तो विष बन जाता है, जल तो वही है किंतु संगति अलग-अलग है आपको भी अच्छी संगत मे रहना चाहिए। जो आपके जीवन का विकास करे। और अगर आप गलत संगति में हो तो तुरंत अपनी संगति बदल दीजिए जैसे विभीषण को बोध हुआ कि रावण गलत है तो उसने संगति बदल ली और श्री रामचं

क्यो रामजी ने हँसी पर लगाई रोक -

एक समय की बात है, 14 वर्ष के वनवास के बाद जब भगवान श्री रामचंद्र जी का राज्य अभिषेक हो गया। तो एक दिन आनंद उत्सव चल रहा था उस समय सभा का एक व्यक्ति नर्तकी का नृत्य देकर जोर से हंस पड़ा, हंसी सुन के राम जी को रावण युद्ध की बात याद आ गई। कि जब वे रावण के मस्तकों को काटकर आकाश में उड़ा देते थे, तो वह मस्तक भयानक दातों को दिखाकर हंसते हुए नीचे गिरते थे राम जी जब भी किसी का हँसी सुनते तो उनकी आंखों के सामने वही दृश्य घूमने लगता था, अतः राम जी ने आदेश दिया कि हमारे राज्य में कोई नहीं हँसेगा जो हँसेगा उसे दंड दिया जाएगा, अब तो सभी ने हंसना छोड़ दिया कोई भी राज्य एवं देशवासी राम जी के दंड के भय से एकांत में भी नहीं हँसता था, ऐसा वर्ष भर चलता रहा हंसना बंद होने से उक्त आहट होने लगी प्रसन्नता के देवता जो चित्त में रहते हैं इंद्र के पास जाकर अपना दु:ख बता कर बोले हमारे पर ठाकुर जी ने बंदिश लगा दी है। सृष्टि क्रम में तो हंसी की भी जरूरत है इससे तो उत्साह समाप्त हो जायेगा । इसके आभाव मे कार्य एक बोझ बन जायेगा ,हे देवेंद्र हम हँसी के देवता धरती से चले जाए यह कैसे संभव हो सकता है आप

सर्व प्राणियों की पीड़ा का बोध -

Image
बुरे लोग सज्जनो को परेशान करते हैं किंतु परास्त नहीं कर सकते। इसी पर आज की हमारी एक छोटी सी कहानी आपका मार्गदर्शन करेंगी। एक बार एक राजा कि सभा में ज्ञानेश्वर जी ने वेदांत की ऊंची बाते सुनाई । तब एक सभ्य व्यक्ति ने कहा- यह तो सचमुच ज्ञानेश्वर है, परंतु 12 वर्ष के बाल ज्ञानेश्वर के मुंह से इतनी ऊंची ऊंची बातें सुनकर स्थूल और छोटी बुद्धि वाले लोगों ने उनका मजाक उड़ाया। उसी समय सभा मंडप के बाहर आने पर एक भैसा दिखाई दिया, तब उस भैसे कि ओर देखते हुए, एक असभ्य व्यक्ति बोल उठा- अजी यह भैसा जा रहा है, इसका भी नाम ज्ञानेश्वर है यह बात सुनते ही, बाल ज्ञानेश्वर ने कहा हाँ - ठीक हि कहा आपने इसमें और हममें कोई भेद नहीं यह भैसे मे भी मेरी ही आत्मा है यदि आप ज्ञान कि सच्ची आंखो से देखोगे तो भैसे में और हम में थोड़ा सा भी भेद नहीं है सब जीवो मे वह एक हि परमात्मा व्याप्त है, जैसे असंख्य घड़ो मे जल भरा हुआ है और उन सब में एक ही चांद चमक रहा है उसी प्रकार सब प्राणियों में समान रूप से भगवान व्याप्त है । जब यह बातें हो रही थी तभी उस भीड़मे से एक दुराचारी व्यक्ति ने भैसे की पीठ पर फटाक से तीन चाबुक लगा