Posts

आत्मबल का महत्त्व

Image
   आत्मबल एक ऐसा गुण है, जो हमारे पुरुषार्थ को जाग्रत रखता यह गुण कठिन क्षणों में ऊर्जा का स्रोत साबित होता है। आत्मबल हमें हर बुराई और विघ्न-बाधाओं से बचाता है। कहते हैं कि मरणासन्न शरीर में भी नवजीवन का संचार कर दे, ऐसी अमृत बूंद है आत्मबल। सच तो यह है कि जहां कोई प्राणी हमारा सहायक नहीं होता,वहां हमारा आत्मबल हमें सहारा देता है। यह हमें न सिर्फ दृढसंकल्पीऔर साहसी बनाता है, बल्कि जीवन-संग्राम में जीतने की अदम्य इच्छाशक्ति भी प्रदान करता है। यह हमें न सिर्फ अच्छे कर्म करने के लिए प्रेरित करता है, बल्कि हमें प्रतिकूल परिस्थितियों से निकलने की हिम्मत भी देता है। यह हमारा ऐसा बलवान साथी है, जो जीवन के घनघोर अंधेरे से हमें बाहर निकाल सकता है। आत्मबल संसार का सबसे बड़ा बल है। यह बल मनुष्य के सर्वांगीण विकासका कारण और समाज का उत्थान करन वाला है। अतः मनुष्य को सरलता से जीवन जीना चाहिए। धन, लोभ, आकांक्षा, अहंकार और पद-प्रतिष्ठा के चक्कर में हम अपना पूरा जीवन बिता देते हैं। इसलिए समय की कीमत समझने वाले इसे व्यर्थ नहीं करते, क्योंकि बीता समय वापस नहीं आने वाला है। आत्मबल जिसका साथी है, वह

आप जानते हैं? DO YOU KNOW लॉनमोवर पर लंबी दूरी

लानमोवर पर सबसे लंबी दूरी तय करने का खिताब ब्रिटेन के एंडी मैक्सफील्ड को मिला है। उन्होंने 1407 किलोमीटर की दूरी 5 दिन, 8 घंटे और 36 मिनट में तय की। दरअसल वे अल्झाइमर्स सोसाइटी की मदद करना चाहते थे। और इसी के लिए चेरिटी एकत्र करने के उद्देश्य से उन्होंने यह यात्रा की।

मेहनत का फल

Image
बहुत पहले की बात है, एक गांव में भोला नाम का एक गरीब आदमी रहता था। उसके पास थोड़ी बहुत जमीन थी पर वह खेती व अन्य काम-धंधा कुछ भी नहीं करता था। उसने एक भैंस पाल रखी थी। उसी को चराता और सुबह-शाम उसका दूध निकाल कर बेच देता था। इस तरह से अपनी जीवन यापन करता था। एक बार वह कहीं जा रहा था। भोला ने उनके चरण स्पर्श किये और उनसे पूछा- गुरुजी आप कहाँ से पधार रहे हैं? गुरुजी ने कहा कि वत्स हम बहुत दूर से आ रहे हैं। हमें बहुत भूख लग रही है, और हम भोजन की तलाश में है। भोला ने कहा कि गुरुजी दिन तो अस्त हो ही गया, रात होने वाली है इसलिए आप दोनों रात्रि विश्राम मेरे यहाँ करें। यह सुनकर गुरू-शिष्य दोनों प्रसन्न होकर उसके साथ घर चल दिए। घर जाकर भोला ने भैंस का दूध निकाला और दोनों अतिथियों को गरम-गरम दूध पिलाया, उन्हें भोजन करा कर सोने के लिए बिस्तर लगा दिए। गुरुजी ने रात में भोला से पूछा- "भोला तुमने केवल एक भैंस ही पाल रखी है। तुम्हारे पास तो जमीन है, खेती भी है। तुम खेती क्यों नही करते?" भोला ने कहा- "गुरुजी खेती में धूप बहुत लगती है, भयंकर ठण्ड में खेत पर जाना पड़ता है। बरसात में पानी ब

फ़िज में रखे अंडे की पोषकता इसलिए कम हो जाती है

Image
कई रिसर्च में पाया गया है कि अंडों को लंबे समय तक कम तापमान पर रखने से उनका पोषण कम हो जाता है। कमरे के तापमान पर रखे अंडे, फ्रिज में रखे अंडों की तुलना में अधिक सेहतमंद होते हैं। फ्रिज में रखने से इसमें पाए जाने वाले प्रोटीन, कैल्शियम और ओमेगा 3 फैटी एसिड आदि नष्ट हो जाते हैं। यूरोपीय अंडा विपणन नियमों के अनुसार, अंडों को फ्रिज में रखने के बाद उन्हें रूम टेंपरेचर पर रखने की प्रक्रिया कंडेनसेशन का कारण बन सकती है। कंडेनसेशन अंडे के छिलके पर मौजूद बैक्टीरिया की गति को बढा सकता है। इससे बैक्टीरिया अंडे के भीतर पहुंच सकते है। ऐसे अंडे खाना सेहत के लिए ठीक नही होते।
Image
आप जानते हैं? DO YOU KNOW लॉनमोवर पर लंबी दूरी लानमोवर पर सबसे लंबी दूरी तय करने का खिताब ब्रिटेन के एंडी मैक्सफील्ड को मिला है। उन्होंने 1407 किलोमीटर की दूरी 5 दिन, 8 घंटे और 36 मिनट में तय की। दरअसल वे अल्झाइमर्स सोसाइटी की मदद करना चाहते थे। और इसी के लिए चेरिटी एकत्र करने के उद्देश्य से उन्होंने यह यात्रा की।

वैज्ञानिकों ने खोजा बुढ़ापा लाने वाला जीन और इसे रोकने की प्रक्रिया अब नहीं फटकेगा बुढ़ापा, खुलकर बोलें-अभी तो मैं जवान हूं

Image
जवानी नींद भर सोया और बुढ़ापा देख कर रोया। लेकिन अब बुढ़ापा आपको छू भी नहीं पाए और आप खुलकर बोल सकेंगे कि अभी तो मैं जवान हूं। जी हां, वैज्ञानिकों ने उस जीन की खोज कर ली है तो कि शरीर में बढ़ापा लाता है। साथ ही वैज्ञानिकों ने उस प्रक्रिया का भी सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया है जिसके द्वारा शरीर में बुढ़ापे को धीमा कर दिया जाएगा। स्टेम सेल मैग्जीन में प्रकाशित वैज्ञानिकों की इस नवीन खोज से जल्द ही बड़े बदलाव आने की उम्मीद है। सेल्युलर रीप्रोग्रामिंग से होगा कायाकल्पः यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन के डॉ. वॉन ज ली के अनुसार बुढ़ापा दरअसल मैनसेक्यमाल स्टेम सेल (एमएससी) की गतिविधियों और कार्यप्रणाली में आने वाली कमी होती है। अब नए शोध से एमएससी के दवाओं और अन्य उपचार के माध्यम से बुढ़ापे को किया जा सकेगा। इसके लिए सेल्युलर (कोशिका) रीप्रोग्रामिंग की जाएगी। मैनसेक्यमाल स्टेम सेल का दवाओं और उपचार से सेल्युलर रीप्रोग्रामिंग की जाएगी। शरीर के जोड़ों में छिपा है राज: घुटनों व कोहनी के सनोविअल फ्लूड से एमएससी को रीप्रोग्राम कर प्लूरीपोटेंट स्टेम सेल (पीएसएस) में डाल देते हैं। फिर पीएसएस में युवा हु

गर्भ संस्कार की आवधारणा

Image
काशी हिंदू विवि के आयुर्वेद विज्ञान विभाग ने गर्भ संस्कार शिक्षा देने की शुरूआत की है। कैम्ब्रिज विवि भी गर्भ संस्कार की आवधारणा को मान चुका है। भारत में ये प्रयोग जमशेदपुर के 'फेडरेशन ऑफ ऑब्स्टेट्रिक एंड गाइनेकोलॉजिकल सोसाइटी', इंदौर में अभिभावक प्रशिक्षण संस्थान और हिंदी विवि भोपाल में शुरू हो चुके हैं। इन संस्थानों में गर्भस्थ शिशु को तकनीक के जरिए गणित और विज्ञान जैसे जटिल विषयों में दक्ष करने के उद्देश्य से यह शिक्षा दी जा रही है। इसे 'अद्भुत मातृत्व' की संज्ञा दी गई है। अर्जुन पुत्र अभिमन्यु का गर्भ में रहते चक्रव्यूह भेदने की शिक्षा लेने, लेकिन बाहर निकलने की विधि सुनने के समय मां का सो जाने से तात्पर्य है कि मां की कोख से कोई संपूर्ण ज्ञान प्राप्त करके नहीं आता। सारा ज्ञान जीवन की जटिलताओं से जूझते हुए ही सीखा जा सकता है। उपनिषदों में एक अन्य कथा भी गर्भ शिक्षा से जुड़ी है। ऋषि उद्दालक की पुत्री सुजाता का विवाह शिष्य कहोड़ से हुआ था। सुजाता के गर्भवती होने के बाद कहोड़ श्लोकों का गलत पाठ करते तो शिशु टोकता, 'पिताजी आप गलत वेद पाठ कर रहे हैं।' पिता क्रोधि